ईरान ने पेश की लंबी दूरी की नई बैलिस्टिक मिसाइल, पश्चिम एशिया के कई देश निशाने पर

तेहरान: ईरान के ‘रिवोल्युशनरी गार्ड’ ने 2,000 किलोमीटर की दूरी तक मार करने में सक्षम अपनी नयी बैलिस्टिक मिसाइल पेश की है जो इस्राइल सहित पश्चिम एशिया के अधिकांश हिस्से में पहुंचने में सक्षम है. तेहरान में शुक्रवार (22 सितंबर) को एक सैन्य परेड के दौरान यह मिसाइल पेश की गई. यह परेड 1980 के दशक के ईरान – इराक युद्ध की याद में आयोजित की गयी. सरकार संचालित आईआरएन समाचार एजेंसी ने चीफ ऑफ द गार्ड के एयरस्पेस डिवीजन के प्रमुख जनरल आमिर अली हाजीजादेह के हवाले से बताया कि नयी मिसाइल खुर्रमशहर विभिन्न उद्देश्यों के लिए कई आयुध ले जाने में सक्षम है. ईरान का यह कदम अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को एक सीधी चुनौती है, जिन्होंने ईरान के बैलिस्टिक मिसाइल कार्यक्रम में शामिल लोगों या ईरान के साथ कारोबार करने वालों पर जुर्माना लगाने के प्रावधान वाले एक विधेयक पर हस्ताक्षर किया है.

इससे पहले ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी ने शुक्रवार (22 सितंबर) को कहा कि उनका देश अमेरिका और फ्रांस की आलोचना के बावजूद अपनी बैलिस्टिक मिसाइल क्षमताओं को बढ़ाएगा. इराक के साथ 1980-1988 के ईरान के विनाशकारी युद्ध के शुरू होने की बरसी पर अपने भाषण में रूहानी ने कहा, ‘‘चाहे आप पसंद करें या नहीं, हम अपनी सैन्य क्षमताओं को मजबूत करने जा रहे हैं जो बचाव के लिए आवश्यक है.’’ उन्होंने कहा, ‘‘हम न केवल अपनी मिसाइल क्षमताओं को मजबूत करेंगे, बल्कि हवाई, जमीनी और समुद्री बलों को भी मजबूत बनाएंगे. जब अपने देश की रक्षा की बात आती है तो हमें किसी की अनुमति लेने की जरूरत नहीं है.’’

ईरान और विश्व की बड़ी शक्तियों के बीच 2015 के परमाणु समझौते पर डोनाल्ड ट्रंप प्रशासन की आलोचना अब ईरान के मिसाइल कार्यक्रम पर केंद्रित हो गयी है. ईरान ने कहा कि समझौते की शर्तों के तहत मिसाइलें पूरी तरह वैध हैं क्योंकि वे परमाणु आयुध ले जाने के हिसाब से डिजाइन नहीं की गई हैं. बहरहाल, अमेरिका का कहना है कि ईरान ने समझौते की भावना का उल्लंघन किया है क्योंकि वे परमाणु आयुध ले जाने में सक्षम हैं. अमेरिका के इस रुख को फ्रांस का समर्थन मिला है. फ्रांस के राष्ट्रपति एमैनुएल मैक्रों ने कहा कि इस समझौते का मिसाइल परीक्षणों पर प्रतिबंध तक विस्तार किया जाना चाहिए और उस खंड को हटाया जाना चाहिए जिसके तहत ईरान वर्ष 2025 से कुछ यूरेनियम संवर्धन फिर से शुरू कर सकता है.

Comments

comments