मेरठ में प्रदर्शन के बीच योगी की रैली, कहा- मेरी सरकार में जाति और मजहब के आधार पर भेदभाव नहीं

मेरठ। मेरठ दौरे पर पहुंचे सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि यूपी में परिवर्तन सिर्फ सत्ता का परिवर्तन नहीं है, बल्कि समाज के अंतिम पायदान तक विकास को पहुंचाना ही उनकी सरकार का लक्ष्य है. उन्होंने कहा कि उनकी सरकार में जाति, मजहब के आधार पर भेदभाव नहीं किया जाएगा.

क्रांति दिवस से पहले मेरठ में स्वतंत्र सेनानियों को नमन करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा, “जो कौम अपने इतिहास को संजोकर नहीं रख सकती, वो अपने भूगोल की रक्षा भी नहीं कर सकती.”

मेरठ के भैसाली ग्राउंड में जनसभा को संबोधित करते हुए सीएम योगी ने कहा कि शहीदों के परिजनों का सम्मान किया गया है. अशफाक उल्ला खां, भगत सिंह ने स्वतंत्रता संग्राम को गति दी. अंग्रेजों ने जाति, समुदाय के नाम पर लड़ाया. विकास के लिए जाति, मजहब से ऊपर उठना होगा. सबको देश के लिए सोचना होगा. पीएम मोदी देश के नहीं, वैश्विक नेता हैं. पीएम मोदी विश्व के लिए आदर्श नेता है.

सीएम ने कहा कि एक भारत, श्रेष्ठ भारत का सपना साकार करना होगा. यूपी में जाति, मजहब के आधार पर किसी के साथ भेदभाव नहीं होगा. किसान को फसल का उचित दाम मिलना चाहिए.

हमारी सरकार में एक महीने में 62 सौ करोड़ का गन्ना भुगतान हुआ. अब अच्छे दामों पर बाजार में गेहूं बेच सकते हैं. यूपी सरकार किसी के साथ भेदभाव नहीं करेगी. किसानों का सभी तरह का आलू खरीदने के दिए निर्देश दिए गए हैं.

सीएम ने कहा कि किसानों के आलू न खरीदने की शिकायत पर कार्रवाई होगी. उत्तर प्रदेश में एंटी रोमियो स्क्वॉयड सख्ती से काम कर रहा है. यही नहीं हर जिले में प्रभारी मंत्री कार्यों की समीक्षा कर रहे हैं. उत्तर प्रदेश सरकार में अपराधियों के साथ कानून सख्ती से निपटेगा. कानून को अपने हाथ में लेने की आवश्यकता नहीं है. अपराधियों की शिकायत प्रशासन से करें, कार्रवाई होगी.

मेरठ में सीएम योगी के खिलाफ प्रदर्शन, नारेबाजी

मेरठ में दलितों की बस्ती में गए उत्तर प्रदेश के सीएम योगी को मिले दुलार के बाद शेरगढ़ी में ही दलितों का गुस्सा भी भड़क गया। उन्होंने सीएम योगी के खिलाफ जमकर नारेबाजी और तोड़फोड़ की। बीजेपी के होर्डिंग तोड़ दिए, एक शराब के ठेके पर हमला बोल दिया। यह पूरी घटना भीमराव अंबेडकर की एक मूर्ति पर योगी के द्वारा माल्यार्पण नहीं करने की वजह से हुई।

दरअसल, सीएम योगी जिस मलिन बस्ती शेरगढी में लोगों का दर्द जानने गए थे, उसके ठीक बाहर डाक्टर अंबेडकर पार्क हैं उसमें एक बड़ी प्रतिमा लगी हैं। योगी उसके पास से गुजरे लेकिन मार्ल्यापण नहीं कर सके। अफसरों की तरफ से बनाए गए प्रोग्राम में भी मार्ल्यापण करना तय नहीं था। इस तरफ किसी बीजेपी नेता और अफसर का भी शायद ध्यान नहीं गया। जबकि दलितों को उम्मीद थी कि सीएम प्रतिमा पर मार्ल्यापण करने जरूर आएंगे। इसलिए कुछ दलित अपनी बात वहां कहने के लिए भी इकट्ठा थे। जैसे ही प्रतिमा के पास से सीएम कार में बैठकर गुजरे, वहां एकत्र युवा दलितों नें नाराजगी फैल गई।

प्रदर्शनकारियों ने नारेबाजी शुरू कर दी। सीएम को अंबेडकर विरोधी बताते हुए बस्ती में काफी देर तक योगी के खिलाफ नारेबाजी करते रहे। उसके बाद युवा जुलुस के तौर पर बस्ती के बाहर वीपीएल माल के रोड पर आ गए। भीड़ ने वहां जाम लगा दिया। कुछ युवाओं ने एक दो वाहन में तोड़फोड़ कर दी, जिससे भगदड़ मच गई। भीड़ में से कुछ युवाओं ने पास से शराब के ठेके पर हमला बोल दिया। काफी शराब की बोलत भी उठा कर ले गए। पुलिस ने पहुंचकर भीड़ को भगाया और हालात सामान्य किए।

खरखौदा में मिलने के लिए भीड़ ने सीएम की कार रोकी
सीएम सुबह खरखौदा में गेंहूं क्रय केंद्र पर पहुंचे। वहां उन्होंने अफसरों, बीजेपी नेताओं से बात ली, लेकिन केंद्र के बाहर कफी भीड़ सीएम से मिलना चाहती थी। काफी लोग अपने हाथ में अर्जी लिए थे, वह सीएम तक उनको पहुंचाना चाहते थे। लेकिन सीएम को भीड़ से दूर करने की अफसरों की रणनीति रही। नाराज भीड़ सड़क पर आ गई। सीएम खरखौदा हेलिकॉप्टर से आए थे, लेकिन खरखौदा से वह कार से मेरठ शहर में मलिन बस्ती में पहुंचे थे। कार में बैठकर जैसे ही सीएम चले, सड़क पर भीड़ से लगे जाम से काफिला रुक गया। कई लोग तो कार के आगे लेट गए। सीएम ने कार की खिड़की खोलकर लोगों का अभिवादन स्वीकार किया और रवाना हो गए।

मेडिकल में एमपी,एमएल-कमिश्मर को सिक्यॉरिटी ने रोका
मलिन बस्ती से सीएम मेडिकल कालेज में निरीक्षण के लिए पहुंचे। उनके साथ मंत्री स्वास्थ्य मंत्री और मेरठ जिले के प्रभारी सिद्धार्थनाथ सिंह भी थे। मेडिकल कालेज में ट्रामा सेंटर में अंदर जाने को लेकर सांसद राजेंद्र अग्रवाल और दो विधायकों को सीएम की सिक्योरिटी ने रोक दिया। सांसद की उनसे झड़प हो गई। वह तब अंदर जा सके। इसी दौरान मेरठ मंडल के कमिश्नर प्रभात कुमार को भी सिक्योरिटी ने बाहर ही रोके रखा। काफी देर बात बताने पर उनको अंदर लिया गया।

भैंसाली ग्राउंड में एंट्री को लेकर पुलिस से भिड़े बीजेपी वर्कर
भैंसाली ग्राउंड में सीएम को सभा में शामिल होना था। वहां पर सीएम ने संबोधन भी किया। यहां पर अफसरों, मीडिया और वर्करों के लिए अलग अलग इंट्री गेट बनाए गए थे। बीजेपी वर्कर गेट नंबर दो से अंदर जाने की जिद कर रहे थे। पुलिस उनके दूसरे गेट से भिजना चाहती थी, इसको लेकर बीजेपी वर्कर काफी देर तक पुलिस से भिड़ते रहे। विवाद के बाद जिला बीजेपी के संगठन के पदाधिकारी हंगामा कर रहे पर्टी वर्करों को लेकर प्रोग्राम में पहुंचे।

Comments

comments