कॉमेडी और मैसेज का कॉकटेल है सनी देओल की Poster Boys

नई दिल्ली: बॉलीवुड का लेटेस्ट ट्रेंड यही चल रहा है कि देसी टच वाली फिल्में बॉक्स ऑफिस पर अच्छा प्रदर्शन कर रही हैं. पहले ‘टॉयलेटः एक प्रेम कथा’, फिर ‘बरेली की बर्फी’ और ‘बाबूमोशाय बंदूकबाज’ और पिछले हफ्ते ‘शुभ मंगल सावधान.’ इन सभी फिल्मों में जहां कॉमेडी का भरपूर टच था तो दो फिल्में संदेश भी अपने में समेटे हुए थीं. सनी देओल, बॉबी देओल और श्रेयस तलपड़े की ‘पोस्टर बॉयज’ भी ऐसी ही फिल्म है. हंसी ठहाकों से भरपूर है और ऐसा संदेश भी दे जाती है जिस पर हमेशा से हमारे समाज में खुलकर बात नहीं की जाती हैः नसबंदी. कहानी पहले सीन के साथ ही दौड़ने लगती है, हालांकि फिल्म के दूसरे हाफ में थोड़ी संदेशबाजी होती है लेकिन कॉमेडी का पुट छूटता नहीं है. जबरदस्त पंच है. ‘पोस्टर बॉयज’ इसी नाम से बनी मराठी फिल्म का रीमेक है. श्रेयस तलपडे ने डायरेक्शन की जिम्मेदारी बहुत ही खूबी से निभाई है.

रेटिंगः 3.5 स्टार
डारेक्टरः श्रेयस तलपडे
कलाकारः सनी देओल, बॉबी देओल, श्रेयस तलपडे और सोनाली कुलकर्णी

कितनी दमदार कहानी
कहानी जंगेठी गांव से शुरू होती है. जहां जगावर चौधरी (सनी देओल), विनय शर्मा (बॉबी देओल) और अर्जुन सिंह (श्रेयस तलपडे) को उस समय जोर का झटका लगता है, जब उनकी तस्वीर नसबंदी के सरकारी पोस्टर पर आ जाती है. सनी देओल की बहन की शादी रुक जाती है. बॉबी देओल की बीवी छोड़कर चली जाती है और श्रेयस तलपडे की गर्लफ्रेंड के पिता शादी तोड़ देते हैं. इस तरह तीनों असली दोषी को खोजने निकल पड़ते हैं, और उनको टकराना पड़ता है सरकार के साथ. फिल्म का फर्स्ट हाफ ठहाकों से भरपूर है. फिल्म में जितने भी एक्टर आते हैं, मजा दिलाते हैं. फिल्म के वनलाइनर भी अच्छे हैं, और नसबंदी को लेकर जिस तरह की बातें जुड़ी हैं, उन्हें बहुत ही बढ़िया ढंग से पेश किया गया है. सेकंड हाफ में फिल्म थोड़ी गंभीर होती है लेकिन फिर भी ठहाकों के भरपूर मौके हैं.

एक्टिंग के रिंग में
जगावर चौधरी के किरदार में सनी देओल कमाल के लगे हैं. उनके ढाई किलो के हाथ में अब भी दम है, और वे इसकी झलक बीच-बीच में देते भी रहते हैं. सनी देओल के कॉमेडी के पंच भी मजेदार हैं. बॉबी देओल ने लंबे समय बाद वापसी की है. विनय शर्मा का किरदार उन्होंने बेहतरीन ढंग से निभाया है. उन्हें और भी फिल्में करनी चाहिए. श्रेयस तलपडे ने कमाल की एक्टिंग की है. कॉमेडी का मोर्चा उन्होंने ऐसा संभाला है कि मजा आ गया. सोने पर सुहागा उनके फिल्म में दो शार्गिद हैं. फिल्म में आने वाले बाकी कैरेक्टरों ने भी कॉमेडी का तड़का लगाने में कोई कोर-कसर बाकी नहीं रखी है.

बातें और भी हैं
फिल्म के डायलॉग काफी मजेदार है. जब सब लोग नसबंदी को लेकर तीनों का मजाक उड़ाते हैं तो एक शख्स कहता है, “इन्होंने तो मीटर का कनेक्शन ही कटवा लिया” और जब बॉबी देओल की बीवी नसबंदी को लेकर पति पर गुस्सा होती है तो कहती है, “पति नाम की चीज की जगह एक ठंडी ईंट पड़ी हो तो उसका क्या फायदा.” आखिर में फिल्म इस बात का संदेश देती है कि नसबंदी कराना कोई कलंक की बात नहीं है. फिल्म का बजट लगभग 15 करोड़ रु. बताया जाता है. फिल्म में हर वह मसाला है, जो दर्शकों को एक बार सिनेमाघर लाने का दम रखता है. ‘पोस्टर बॉयज’ फैमिली एंटरटेनर है.

Comments

comments