अनदेखी प्रतिभा विकास कार्यक्रम श्रंखला “जो आये वो गाये” का ग्रांड फिनाले धूमधाम से सम्पन्न

नोएडा(अनिल कुमार श्रीवास्तव)।नोएडा के समाजसेवियों व सामाजिक संस्थाओं के सहयोग से प्रतिभा विकास समर्पित सामाजिक संस्था नवरत्न फाउंडेशन्स द्वारा अनदेखी प्रतिभा विकास मासिक कार्यक्रम श्रंखला जो आये वो गाये का ग्रांड फिनाले आयोजित कर अनदेखी प्रतिभाओ का प्रतिस्पर्धात्मक उत्साह वर्धन किया गया।

दिल्ली के लोधी रोड स्थित इस्लामिक सांस्कृतिक केंद्र में गत शाम सुरों से सजी इस प्रतियोगिता की शुरुआत दीप प्रज्वलन के साथ हुई।गीत संगीत के क्षेत्र में लोकप्रिय गायकों सोमेश्वर शर्मा, संजय पांडेय, डी मुखर्जी, तुहिना चटर्जी, पंकज माथुर, कपिल तिवारी की टीमो की 18 प्रतिभाओ के बीच हुए रोचक मुकाबले में कपिल तिवारी टीम के शिवम शीर्ष स्थान पर रहे।प्रतियोगिता में शिवम को सर्वोच्च सम्मान से नवाजा गया वही तुहिना चटर्जी के अभिषेक ने मुकाबले में दूसरा स्थान पाकर अपनी प्रतिभा का परिचय दिया।

इस बीच लिटिल चैंप दिवाकर शर्मा की लंबी अलाप के साथ दी गयी मनभावन प्रस्तुतियो ने मौजूद लोगों को मंत्रमुग्ध कर दिया।आवाज के जादूगर दिवाकर की प्रस्तुति से झूम उठे कार्यक्रम स्थल के लोगो ने हर प्रस्तुति पर करतल ध्वनि से स्वागत किया।इस ग्रांड फिनाले प्रतियोगिता के निर्णायक मंडल में आनन्द स्वरूप, डॉ बबिता शर्मा, डॉ एस पी शर्मा, किश्तजी माथुर, सीता राम शर्मा व राजन शर्मा ने निष्पक्षता के साथ अहम भूमिका निभाई।मंच का संचालन अनिता भलवार ने किया।कार्यक्रम आयोजक व नवरत्न फाउंडेशन्स अध्यक्ष ने अपने सम्बोधन में आगन्तुको का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि अनदेखी प्रतिभाओ को आगे लाने के लिए गत वर्ष शुरू हुए इस कार्यक्रम श्रंखला में तमाम समाजसेवी व सामाजिक संस्थाए सहयोग भाव से आगे आये उनका तहे दिल से शुक्रगुजार हूं।श्री श्रीवास्तव ने नवरत्न फाउंडेशन्स की महिला सशक्तिकरण, बाल विकास व प्रतिभा विकास सम्बन्धी उपलब्धियों पर भी प्रकाश डाला।

मालूम हो कि राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में सक्रिय एन ई ए, क्लब 26 , क्रिएटेक्स, टेन न्यूज, न्यूज स्ट्रीट, जय हिंद जनाब, टी आर आई म्यूजिकल ग्रुप, स्पर्श, डीएमएस आरोही ग्रुप, हारमोनी आदि संस्थाओं के सहयोग से गत वर्ष शुरू हुए इस जो आये वो गाये मासिक श्रंखला के 11 कार्यक्रमो में 15 से 75 साल की सैकड़ो अनदेखी प्रतिभाओ को पहली बार सार्वजनिक मंच मिला।गत माह हुए सेमी फाइनल में 260 से 40 प्रतिभाएं पहुंची थी।जिनकी संख्या फाइनल तक 6 संगीत गुरुओं की अगुवाई में 18 रह गयीं थी।तीन तीन प्रतिभाओ को लेकर ये छह संगीत गुरु इस रोचक प्रतियोगिता में मुकाबले में थे।ग्रांड फिनाले में किसी कारण न पहुंच पाने की स्थिति में नवरत्न परिवार ने डिजिटल प्रसारण की भी व्यवस्था की थी जिससे संगीत प्रेमियों ने अपने कार्यस्थलों, घरों आदि जगहों पर कार्यक्रम का लुफ्त उठाया और संस्था को धन्यवाद ज्ञापित किया।
इस ग्रांड फिनाले में दर्जनो लोग मौजूद रह कर प्रतिभाओ का उत्साहवर्धन करते रहे।

Comments

comments